“द विंडो” इस तरह की फिल्में बहुत कम ही बनती हैं..

द विंडो

सुंदर मोरे | NavprabhatTimes.com

इतिहास गवाह है कि जब फिल्में दिल से बनाई जाती हैं, तो बॉक्स ऑफिस पर उसका अंजाम चाहे जो भी हो, लेकिन दर्शकों के दिलो दिमाग पर वो फिल्में सदियों तक अपनी छाप छोड़ती हैं। गुरुदत्त साहब की ‘प्यासा‘ का शायर हो, या ‘कागज के फूल‘ का डायरेक्टर, शैलेन्द्र जी की ‘तीसरी कसम‘ का बैलगाड़ी वाला हो, या राज कपूर के ‘मेरा नाम जोकर‘ का राजू जोकर; ये किरदार दशकों बाद भी जिंदा है क्यूँ?… क्योंकि इन्हें बनाते हुए बॉक्स आफिस पर होने वाले नफे नुकसान की चिंता नही की गई।

द विंडो‘ फ़िल्म की प्रोड्यूसर नुपूर श्रीवास्तव का कहना है – दरअसल एक फ़िल्म मेकर किसी सर्कस कंपनी का मालिक नहीं होता, जिसे बस किसी तरह मनोरंज करके पैसा कमाने से मतलब हो, वह एक स्टोरी टेलर होता है, जो अपने दर्शकों को नई-नई कहानियाँ सुनाना चाहता है। यही कारण है कि अगर किसी फिल्म की कहानी पुरानी या घिसी पीटी भी हो, तो उसका अंदाज-ए-बयां बदलकर, उसे नए रूप मे पेश किया जाता है। एक फ़िल्म मेकर के तौर पर मुझे हर तरफ की कहानियाँ दर्शकों के बीच ले जाना पसंद है। मैं कभी आर्ट मूवी मेकर या कमर्शियल मूवी मेकर की इमेज में बंधना नहीं चाहूँगी। अगर हमारी फ़िल्म ‘द विंडो’ की बात की जाए तो उसकी कहानी मुझे इतनी पसंद आई कि मुझे लगा कि ये कहानी दर्शकों तक जरूर जानी चाहिए । मैं जानती हूं, ये मशाला फ़िल्म नहीं है, लेकिन खुशी की बात ये है कि आज भी दर्शकों का बड़ा तबका ऐसा है , जो कुछ नई कहानियाँ सुनना चाहता है।

यह भी पढ़ें  ➡ KRK ने Twitter से कहा, मेरा एकाउंट चालू करो नहीं तो… 

द विंडो

फ़िल्म के निर्देशक – वी. के. चौधरी, जो इस फ़िल्म के लेखक भी हैं, ने एक लेखक की कहानी लिखी है और मुख्य कलाकार अमित वशिष्ट ने उनके निर्देशन में उस लेखक के किरदार को अपने शानदार अभिनय से जीवंत करने का काम किया है। खास बात यह है कि दोनों ही पुणे फ़िल्म इंस्टीटयूट के पासआउट स्टूडेंट्स हैं और कहीं ना कहीं दोनों ही इस फ़िल्म के जरिए अपनी छाप छोड़ने के लिए बेताब नज़र आते हैं।

फ़िल्म ‘द विंडो ‘ 10 नवम्बर को पूरे देश भर में रिलीज होने जा रही है। फ़िल्म की प्रोड्यूसर नूपुर श्रीवास्तव का कहना है कि वो फ़िल्म के ट्रेलर को देखकर आ रहे रिव्यू से काफी उत्साहित हैं और उन्हें भी अब 10 नवम्बर का इंतजार काफी बेसब्री से है।

प्रस्तुति: आनंदप्रकाश शर्मा

LEAVE A COMMENT

Please enter your comment!
Please enter your name here